~ डेस्टिनी…

हुआ यूं
उसको बुलाया
निकट बिठाया
चाय पिलाई
और फिर पूछा
ओ ज़िंदगी
क्यूं रहती है
तू
मुझसे रूठी

उसने भी
नज़रे उठाई
मुस्कुराई
और बोली
हट परे
पगले कहीं के
मैं रूठी
रत्ती भर नहीं

इक बात सुन
न मैं खुश न तू खुश
न ही हम है दुःखी
एक ही मकसद
हमारा
मौत इज़ द डेस्टिनी
हैव व्हिस्की
ऑर
टी…

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.